प्रधानाचार्य का संदेश

मुख्य

                                                                         

सन्देश

प्राचार्या-श्रीमती ममता शेखर की कलम से ...................................l

             शिक्षा केवल अपने आप में एक लक्ष्य है, बल्कि  यह  सामाजिक बदलाव का  प्रबल  वाहक भी  है।  जीवन में  मिला एक अच्छा शिक्षक एक दिशाहीन बालक को भी आदर्श नागरिक में  बदल देने की सामर्थ्य रखता है। यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि केन्द्रीय विद्यालय संगठन ने अपने छात्रों को सर्वाङ्गमुखी  व्यक्तित्व - निर्माण का अवसर दिया है और शैक्षिक  गुणवत्ता को बढ़ाने की दिशा में एक नवीन चलन स्थापित करने वाले संगठन के रूप में  ख्याति अर्जित की है। परीक्षा परिणामों   ढांचागत सुविधाओं में निरंतर  सुधार, नवीनतम शिक्षण-अधिगम के तरीके  और  शिक्षकों के प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित करना - इन  सभी  युक्तियों ने संगठन को अन्य सभी शिक्षण संस्थानों के शिखर पर स्थापित करने एवं उत्कृष्ट ‘ब्रांड’ बनाने में  महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

        बदलती परिस्थितियो को ध्यान में रखते हुए  आज यह महत्त्वपूर्ण हो गया है कि ज्ञान का विस्तार केवल  अध्यापन और कार्यप्रणाली के संदर्भ में हो बल्कि  विषयवस्तु की गहनता के संदर्भ में भी हो युवा पीढ़ी के गिरते हुए   नैतिक  मूल्यों के संदर्भ में  यह स्वीकारने की आवश्यकता है कि शिक्षण व्यवसाय  के प्रति  उचित श्रद्धा भाव उत्पन्न किया जाए और शिक्षकों को समाज में यथोचित सम्मान दिया जाए l   मैं  यहाँ उल्लेख करना चाहूंगी कि  एक सृजनशील समाज  की जड़ें  सशक्त  शिक्षा प्रणाली  में ही निहित हैंपाठ्यक्रम ऐसा हो जो विद्यार्थियों के लिए ज्ञान के  समृद्ध और विविध संदर्भ प्रदान करके उनकी समझ और कौशल के साथ साथ उनमें सृजनात्मक एवं  विश्लेषणात्मक क्षमता   का विकास करे ।शिक्षकों  का प्राथमिक उद्देश्य छात्रों को सकारात्मक सोच  और कौशल के साथ श्रेष्ठ मनुष्य बनने की शिक्षा देना और राष्ट्र निर्माण के  कार्य में भाग लेने योग्य बनाना है । उत्कृष्ट शिक्षकों का कार्य   ` साधारण लोगों'  को असाधारण  प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित करना  है।

      निस्संदेह  हमारे विद्यालय में कुशल और प्रतिष्ठित शिक्षकों का कोई अभाव नहीं है, ऐसे आदर्श शिक्षक जो नवीन  अवसरों, चुनौतियों और जिम्मेदारियों के प्रति  सकारात्मक व्यवहार रखते  हुए   विपरीत परिस्थितियों से निपटने में  सर्वथा सक्षम हैं मैं आश्वस्त हूँ कि हमारे शिक्षक, समाज का मार्गदर्शन पूर्ण निष्ठा के साथ कर रहे हैं और भविष्य में भी करते रहेंगे l    मुझे विश्वास  है कि मैं और मेरे सभी साथी मिलकर   आगामी वर्षों में  अपनी सत्यनिष्ठा  और उत्कृष्टता के नवीन आयाम स्थापित करेंगे व केन्द्रीय विद्यालय संगठन को शिक्षा जगत का उत्कृष्ट ‘ब्रांड’ बनाये रखने में पूर्ण सहयोग देंगे l   

                               जय हिन्द .......l                 

                 असीम शुभकामनाओं सहित ..............................l